दोस्तो आज मै आपके साथ एक ऐसा article share कर रहा हूँ, जो अपने आप मे बहुत ही महत्वपुर्ण है. जिंदगी मे यदि हम किसी चीज या काम को करने मे असफल होते है तो उसकी वजह केवल एक छोटा सा शब्द डर है. यह शब्द डर दिखने मे तो बहुत छोटा है लेकिन जिसके मन मे यह डर बैठ गया समझो वह इंसान मर गया.

दोस्तो डर एक ऐसी चीज है जो लगभग सभी के मन मे होता है. हर किसी मे अलग अलग प्रकार का डर होता है, जैसे किसी को परिक्षा मे फेल होने का डर तो किसी को नौकरी चली जाने का डर होता है. यह डर आम आदमी को अंदर से हिला कर रख देता है. एक असफलता के भय से एक साधारण आदमी हमेशा साधारण ही बना रहता है, क्योंकि वह डरता है कि कही वह असफल ना हो जाये. केवल डर कि वजह से आदमी कुछ नया नही कर पाता और ना ही अपनी क्षमताओ को पहचान पाता है. लेकिन जो इंसान एक बार इस डर के जंजाल से निकल जाता है, तो फिर पुरी दुनिया उसके कदमो तले होती है.

क्या आपने कभी सोचा है इंसान के मन मे डर आता क्यों है?

डर का एकमात्र कारण केवल आदमी के अंदर छिपी हुई अज्ञानता है. जब हम कुछ नया करना चाहते है और अगर हमे उस काम या चीज से सम्बंधित परिस्थितियो के बारे मे जानकारी नही है तो हम डॅरने लग जाते है कि कही कुछ गलत ना हो जाये. इस स्थिति मे हम उस काम को करने की बजाय उससे दूर भागने लग जाते है. जिससे उस काम के प्रति हमारा डर और भी भयानक हो जाता है. उस डर पर काबु पाने का सबसे आसान तरीका है कि जिस चीज या परिस्थिति से आप डर रहे है उसके बारे मे सही तथा अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त कर ले. जिस काम से आपको डर लगता है आप उसी काम को ज्यादा से ज्यादा करे तथा उस काम के साथ दोस्ती कर ले. फिर आपको लगेगा कि जिस काम या चीज से आप डर रहे थे वह तो एक दम साधारण है.

आपको जब भी किसी चीज या स्थिति से डर लगे, तो कम से कम एक बार खुद को आजमाकर देखे कि क्या मै इस डर पर जीत हासिल करके यह चीज प्राप्त कर सकता हूँ? इससे आपका कुछ भी नही बिगडेगा और केवल आत्मविश्वास ही बढेगा. अगर आपने इस डर के आगे घुटने टेक दिए, तब यह डर एक असलियत बन जायेगा और आप उस काम या चीज को अपने जीवन मे कभी भी प्राप्त नही कर सकोगे. जीवन मे कभी भी सफल नही हो सकोगे.

अगर जीवन मे हर कदम पर सफल होना है तो डर नाम की चीज को अपने अंदर से बाहर निकाल दो तथा केवल सकारात्मक सोच रखे नकारात्मक कभी ना सोचे.

नोट: यदि आपके पास कोई कहानी या article है और उसे हमारे साथ Share करना चाहते है तो उसे हमे Email करे, पसंद आई तो जरूर publish करूंगा.

THANKS

Advertisements

5 thoughts on “जो डर गया समझो वो मर गया

  1. स्वामी विवेकानंदजी ने कहा था
    ‘भय सबसे बड़ा पाप है।’

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s